मुंगेर: आपदा के घड़ी में मानव सेवा का अद्भुत उदाहरण प्रस्तुत कर रहा सिटी क्रिटिकल अस्पताल।

अस्पताल की शोभा बढ़ा रहे हैं गोल्ड मेडलिस्ट डॉक्टर नागमणि।

आपदा के घड़ी में मानव सेवा का अद्भुत उदाहरण प्रस्तुत कर रहा सिटी क्रिटिकल अस्पताल।

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

– आपदा को अवसर नहीं मानकर जनमानस की सेवा में लगे हैं अस्पताल की पूरी टीम।

 

 

– अस्पताल की शोभा बढ़ा रहे हैं गोल्ड मेडलिस्ट डॉक्टर नागमणि।

मुंगेर : कोरोना संक्रमण काल किसी आपदा से कम नहीं है जिसको अवसर मानकर जहां जिले के कुछ नामचीन अस्पताल मरीजों के परिजनों के पैकेट कतरने में लगे हैं वही सिटी क्रिटिकल अस्पताल मानव जीवन को बचाने को लेकर को अपने कर्तव्य का परिचय देते हुए मरीजों को सुलभ एवं बेहतर सुविधा का इलाज मुहैया कराते हुए मरीजों एवं उनके परिवार का दुआ लेने में सफल साबित हो रहे हैं। जिले के कोरा मैदान स्थित सिटी क्रिटिकल अस्पताल जहां कोरोना काल में मरीजों के लिए भगवान ही नहीं बने हैं ,बल्कि पॉजिटिव मरीजों को स्वस्थ करने का एक रिकॉर्ड भी स्थापित किया है जिसके कारण मरीज एवं इनके परिजन अस्पताल प्रशासन के सुदृढ़ व्यवस्था की सराहना करते थक नहीं रहे हैं।

 

 

 

अस्पताल के चीफ मैनेजिंग डायरेक्टर डॉ पवन कुमार ने बताया कि कोरोना संक्रमण के दौरान अब तक 42 मरीजों का उपचार किया गया जिसमें 11 मरीज स्वस्थ होकर अपने घर को गए हैं जबकि 18 इलाज बेस्ट डॉक्टरों की टीम के द्वारा किया जा रहा है। अत्याधुनिक सुविधा से लैस 30 बेड वाला सिटी क्रिटिकल अस्पताल के व्यवस्था के बारे में मोकामा के मरीज सुमित कुमार, जमालपुर के विक्की कुमार, गौरीपुर के रतन कुमार, रामनगर के रामसागर, मिलन कुमार आदि ने बताया कि संक्रमण के इस दौर में सिटी क्रिटिकल अस्पताल वास्तव में अपने नाम के अनुसार काम कर रहा है।

 

 

 

मरीज के क्रिटिकल पोजीशन को देख जहां अन्य अस्पताल एवं डॉ अपने क्लीनिक का दरवाजा बंद कर लिया है।वैसे परिस्थिति में हमारे लिए भगवान से बढ़कर सिटी क्रिटिकल अस्पताल के डॉक्टर नर्स बिना भेदभाव किए बेहतर स्वास्थ्य सुविधा मुहैया कराकर हमें स्वस्थ घर भेजने का काम किए हैं। ऐसे अस्पताल के प्रबंधक पर आज के समय में कोई अगर उंगली उठाता है तो उनकी नासमझी एवं भूल होगा। मरीजों ने यह भी कहा संक्रमण के दौर में इंसान अगर इंसान को नहीं पहचाने और अगर डॉक्टर मरीज का इलाज नहीं करे तो डॉक्टर होने का कोई मतलब ही नहीं बनता। वैसे सिटी क्रिटिकल अस्पताल के मैनेजर बीके शर्मा ने बताया कि आज बेहतर सुलभ एवं बेहतर सुविधा के बदौलत ही जिले में एक अलग पहचान बनाने में हम लोग सफल हुए हैं जबकि अस्पताल के आईसीयू व्यवस्था के इंचार्ज गोल्ड मेडलिस्ट डॉक्टर नागमणि अपनी बेहतर सेवा अस्पताल को देने से मरीजों को संजीवनी मिल रहा है आने वाले दिनों में अस्पताल महानगर के तर्ज पर मेडिकल सुविधा मरीजों को कम खर्च पर उपलब्ध करवाने की दिशा में तैयारी कर रहे हैं जिसका लाभ मुंगेर ही नहीं आसपास के जिले के जनता आने वाले समय में मिल पाएगा।

Live Cricket Live Share Market

जवाब जरूर दे 

बिहार का अगला मुख्यमंत्री कौन होगा ‌‍?

View Results

Loading ... Loading ...

Related Articles

Back to top button
Close
Close