कोरोना महामारी से रोजगार के नये विकल्प मिले

* टाल क्षेत्रों में कृषि योग्य जमीन की पेशगी बढ़ी

नालन्दा (बिहार)हरनौत- एक तरफ पूरी दुनिया में कोरोना वायरस ने कोहराम मचा रखा है। देश की शहरी आबादी अभी इससे सबसे अधिक प्रभावित है। पिछले साल भर से महामारी के चलते बड़ी संख्या में लोग लौटे हैं। संक्रमण घटने के बाद काफी लोग वापस काम पर चले गये हैं। इधर फिर से कोरोना संक्रमण का जोर है। लोग फिर से लौटने लगे हैं। पर, अबकि वे कोरोना महामारी को लेकर घर में ही रोजगार के विकल्प तलाशने में लगे हैं। इनमें कृषि का विकल्प लोगों की प्राथमिकता बनी है। नतीजा यह हुआ है कि तीन से पांच हजार प्रति बीघा की दर से पेशगी लगने वाली कृषि योग्य जमीन की पेशगी 12 से 15 हजार तक हो गई है।
सिरसी के शंभू कुमार पटेल, अमरपुरी के गजेंद्र सिंह, हसनपुर के रणवीर सिंह, पचौरा के दिनेश यादव, दक्षिणीपुर के कृष्णा पासवान बताते हैं कि पिछले एक दशक में रोड-बिजली के क्षेत्र में गुणात्मक काम हुए हैं। इससे फसल की बुआई, सिंचाई और हार्वेस्टिंग की लागत काफी घटी है। जबकि, उत्पादन बढ़ा है। जमींदारी बांध से टाल क्षेत्रों में बाढ़ और सुखाड़ की समस्या पर भी नियंत्रण हुआ है। इस वजह से बड़ी जोत वाले अथवा बाहर रहने वाले लोगों को खेत की पेशगी में अच्छे दाम मिल जा रहे हैं। जबकि, बाहर से लौटे कामगारों में मोबारकपुर के मुन्ना कुमार, संजय राम, मनोज राउत, दयानंद प्रसाद सहित कई शामिल हैं जो पेशगी पर खेती कर रहे हैं।
एक उदाहरण हरनौत के पचौरा व रहुई के मई-फरीदा से दिया जा सकता है। राजगीर से आकर कारोबारी दर्जनों बीघा में प्याज की खेती करा रहे हैं। इसमें दर्जनों मजदूरों को रोजगार मिल रहा है।
कोरोना संक्रमण के चलते वाहनों में यात्रियों की संख्या लगातार घट रही है। इससे छोटे वाहन चालकों को पेट पर आफत आ गई है। अधिकांश चालक वाहन खड़ी कर खेती में जुट गये हैं।

:: हुनरमंद बने तो घर में मिला काम

डिहरीगढ़ के बंटी बताते हैं कि गांव के काफी युवा चेन्नई, सूरत आदि नगरों में काम करने गये थे। उनमें से कई घर लौटे हैं। अब यही पर वे चौमिन, बर्गर आदि डिश का कॉर्नर लगा रहे हैं। कुछ युवा पेंट या रंग का काम कर अपनी अाजीविका जुटा रहे हैं। ये काम वे बाहर ही सीखे। अब उसके माध्यम से अपना जीविकोपार्जन कर रहे हैं।

रिपोर्ट – गौरी शंकर प्रसाद

Live Cricket Live Share Market

जवाब जरूर दे 

बिहार का अगला मुख्यमंत्री कौन होगा ‌‍?

View Results

Loading ... Loading ...

Related Articles

Back to top button
Close
Close