गुलजार होगा डाकबंगला परिसर बन रहा मार्केटिंग कॉम्पलेक्स

नालन्दा (बिहार)हरनौत – वर्षों से सुअरों के चारागाह के रुप में चर्चित डाकबंगला परिसर के दिन अब फिरने वाले हैं। यहां मार्केटिंग कॉम्पलेक्स निर्माण का काम युद्धस्तर पर शुरू हो चुका है। पहले फेज में 21 दुकानों के भवन की नींव डाली गई है। इससे डाकबंगला परिसर गुलजार होगा।
निर्माण कार्य में लगे अभिकर्ता ने बताया कि ब्लॉक ए, बी, सी करके तीन भवन बनने हैं। ब्लॉक ए में 21 दुकानों की नींव पड़ी है। ब्लॉक बी में 19 और ब्लॉक सी 17 दुकानें बननी हैं। इस तरह कुल 57 दुकानें बनेंगी। जानकार बताते हैं कि दुकान बनने से पहले ही उनकी बुकिंग हो चुकी है। इसके लिए ढाई लाख रुपये का अग्रिम भुगतान करना है, जिसमें सवा लाख बुकिंग के समय ली गई और सवा लाख दुकान बनने के बाद उसे हैंडओवर के समय देनी पड़ेगी। जबकि, किराया प्रति वर्ग फीट 15 से 18 रुपये के हिसाब से लगने की बात कही गई है।
अभी डाकबंगला परिसर में एक मेनगेट जल गोविन्द पथ की ओर है। भवन बनने और दुकान आवंटन तक इसमें उत्तर-पश्चिम की ओर भी प्रवेश द्वार बनाने की योजना बताई जाती है।
ब्लॉक ए के भवन का निर्माण डाकबंगला परिसर के उत्तर-पश्चिम कोने के में ही हो रहा है। जबकि ब्लॉक बी का भवन उसके पुरब बनेगा। ब्लॉक सी का भवन मेनगेट के दक्षिण बनने की बात कही गई है। अभिकर्ता की मानें तो एक बिल्डिंग बनाने में करीब 50 लाख की लागत आयेगी। उसमें शौचालय, पेयजल आदि की व्यवस्था भी की जानी है।

:: सब्जी मार्केट पहले हो चुका है नष्ट

करीब एक दशक पहले डाकबंगला परिसर में लाखों की लागत से सब्जी मार्केट का निर्माण कराया गया था। इसमें स्टॉल बनवाये गये थे। पर परिसर में मुलभूत सुविधा के अभाव में यह मार्केट नहीं बस सका। इसके लिए सुअरों का उत्पात भी कम दोषी नहीं बना। इसकी वजह तब डाकबंगला का खुला परिसर था, जिसे आसपास के बसावटों के अस्थायी शौचालय के रुप में प्रयोग किया जाता था। परिसर में आज भी सुअर के बाड़े मौजूद हैं। वर्तमान में निर्माण कार्य में लगे अभिकर्ता भी इन सुअरों के उत्पात से परेशान बताते हैं।

:: जिला परिषद की अन्य जमीनों पर भी नजर

डाकबंगला परिसर के अलावा हरनौत बाजार स्थित जनता मार्केट के पीछे भी जिला परिषद की काफी जमीन है। एक दशक पुर्व जब डाकबंगला परिसर में सब्जी मार्केट का निर्माण कराया जा रहा था। उस वक्त जनता मार्केट के पीछे की ही जमीन पर इसके निर्माण की मांग फुटपाथी विक्रेताओं ने की थी। यह अलग बात है कि तब उनकी मांगों को अनसुना कर दिया गया। नतीजतन लाखों रुपये की लागत से तब बने स्टॉल की अब एक ईंट भी नजर नहीं आती है।
दुकान के लिए अग्रिम भुगतान कर चुके राजीव बताते हैं कि निर्माणाधीन मार्केट की दुकानों के संबंध में पिछले वर्ष ही प्रक्रिया शुरू कर दी गई थी, जिसकी बुकिंग हो चुकी है। अब जनता मार्केट के पीछे जिला परिषद की जमीन पर भी मार्केट के क्रियान्वयन की प्रक्रिया शुरू बताई जाती है। इसमें दुकान के लिए अभी से ही लोग पेंच भिड़ा रहे हैं।
कहना गलत नहीं होगा कि हरनौत बाजार के आसपास जिला परिषद की काफी जमीन हैं। डाकबंगला परिसर में निर्माण कार्य शुरू होने और उससे प्राप्त राजस्व ने अधिकारियों की आंखें खोल दी हैं। अब शायद हरनौत बाजार का कायाकल्प हो पाये।

:: क्या कहते हैं अधिकारी

सीओ नीरज कुमार सिंह ने कहा कि जिला परिषद की जमीन पर कार्य व उसकी बंदोबस्ती डीडीसी स्तर से होती है। कुछ महीने पहले हरनौत बाजार के आसपास जिला परिषद की जमीन का ब्यौरा अंचल से मांगा गया था। वह उपलब्ध करा दिया गया है।

रिपोर्ट – गौरी शंकर प्रसाद

Live Cricket Live Share Market

जवाब जरूर दे 

बिहार का अगला मुख्यमंत्री कौन होगा ‌‍?

View Results

Loading ... Loading ...

Related Articles

Back to top button
Close
Close