तीसरे दिन मशरुम के व्यवसायिक पर रहा फोकस

* मांसाहार का वैकल्पिक आहार, महिला व बच्चों के लिए जरुरी

नालन्दा (बिहार)हरनौत – मशरुम का उत्पादन एवं इसके लाभ विषय पर तीन दिवसीय ट्रेनिंग प्रोग्राम कृषि विज्ञान केंद्र में शनिवार को संपन्न हो गया। विषय वस्तु विशेषज्ञ डॉ ज्योति सिन्हा ने अंतिम दिन मशरुम का मुल्यवर्द्धन करके इसके व्यवसायिक लाभ पर फोकस किया। उन्होंने बताया कि शाकाहारी लोगों के लिए मांसाहार के विकल्प में मशरुम उच्च क्वालिटी के प्रोटीन का बेहतर स्त्रोत है। यह आसानी से पचने वाला होता है। खासकर महिला व बच्चों के लिए प्रोटीन व मिनरल्स की उपलब्धता का अच्छा स्त्रोत है। यह उनमें खुन की कमी से निजात दिलाता है। साथ ही शारीरिक व मानसिक विकास में महत्वपूर्ण भूमिका निभाता है।
केंद्र प्रभारी डॉ ब्रजेंदु कुमार ने कहा कि वर्तमान समय में लोगों की खाने-पीने की आदतों में बहुत बदलाव हुए हैं। दिनचर्या की गतिविधि बढ़ गई है। पर, भोजन के मामले में शॉर्टकट विधि अपना रहे है। इससे शरीर को सही पोषण नहीं मिल पाता है।
ऐसे में हम नियमित रुप से सही मात्रा में मशरुम के व्यंजन अपने आहार में शामिल करें तो कई बीमारियां स्वत: पास नहीं फटकेंगी।
उन्होंने बताया कि मोटापा नियंत्रित करने, शुगर, कैंसर, कोलेस्ट्रॉल को नियंत्रित कर हृदय रोग से बचाव में मशरुम की अह्म भूमिका हो सकती है। त्वचा संबंधी रोगों, बालों के सफेद होने से बचाव में भी मशरूम के आहार लाभदायक हैं। क्योंकि, इसके लिए जिम्मेवार टॉक्सिन को नियंत्रित करने वाले तत्व मशरुम में होते हैं। हालांकि उन्होंने संबंधित रोगियों को डॉक्टर की सलाह लेने की बात कही। साथ ही अधिक मात्रा में मशरुम के सेवन से भी मना है। प्रतिदिन सौ से डेढ़ सौ ग्राम मशरुम का सेवन फायदेमंद होता है।
उन्होंने इसके पावडर से तैयार सूप, पकौड़े, खमौनी, बिस्किट आदि तैयार कर सकते हैं। इसका पावडर आठ सौ रुपये किग्रा तक मिलता है।
इस दौरान गृह वैज्ञानिक डॉ ज्योति सिन्हा ने मशरुम से बनने वाले 24 तरह के व्यंजनों की भी जानकारी दी।
कार्यक्रम में मिट्टी विशेषज्ञ डॉ युएन उमेश, बागवानी विशेषज्ञ डॉ विभा रानी, पशु चिकित्सा विशेषज्ञ डॉ संजीव रंजन, प्रबंधक मुकेश कुमार, गणपति चौधरी, अर्पणा कुमारी, पुनम पल्लवी, अमरजीत मौजूद थे।

रिपोर्ट – गौरी शंकर प्रसाद

Live Cricket Live Share Market

जवाब जरूर दे 

बिहार का अगला मुख्यमंत्री कौन होगा ‌‍?

View Results

Loading ... Loading ...

Related Articles

Back to top button
Close
Close