सीनियर नेशनल खो-खो फेडरेशन कप की पहली बार आयोजन करेगा बिहार : नीरज

सीनियर नेशनल खो-खो फेडरेशन कप की पहली बार आयोजन करेगा बिहार : नीरज

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

पटना। भारतीय खो खो महासंघ के कार्यालय नई दिल्ली स्थित धवन दीप बिल्डिंग में भारतीय खो-खो महासंघ के एक्सयूटिव कमिटी की बैठक से लौटने के बाद जानकारी देते हुए भारतीय खो-खो महासंघ एक्सयूटिव कमिटी के सदस्य और खो – खो एसोसिएशन ऑफ बिहार के महासचिव नीरज कुमार पप्पू ने जानकारी देते हुए बताया कि इस बैठक में भारतीय खो -खो महासंघ के अध्यक्ष श्री सुधांश मित्तल जी, उपाध्यक्ष सुश्री रानी तिवारी जी ने बैठक शुरू करते हुए आगे की करवाई महासचिव एम एस त्यागी जी को सोपते हुए उन्होंने बहुत दुख के साथ जानकारी दी कि खेल मंत्रालय भारत सरकार द्वारा बनाये जाने वाले 2011 के नियमों के तहत भारतीय खो- खो महासंघ के चेयरमैन और भारतीय ओलंपिक संघ के महासचिव माननीय श्री राजीव मेहता जी ने खो- खो खेल के बेहतरी के लिए मंत्रालय के नियमों को मानते हुए खो-खो खेल व खिलाड़ियों के विकास हेतु अपनी स्वेच्छा से भारतीय खो-खो महासंघ के चेयरमैन का पद को छोड़ते हुए उन्होंने कहा मै सदा खो- खो खेल व खिलाड़ियों के विकास के लिए हमेशा उपलब्ध एवं प्रयासरत रहूंगा।

 

 

 

 

 

ज्ञात हो , कि भारतीय खो-खो महासंघ के चेयरमैन सह भारतीय ओलंपिक संघ के महासचिव राजीव मेहता जी , अध्यक्ष सुधांशु मित्तल जी , महासचिव एम. एस. त्यागी जी आदि के नेतृत्व में काफी कम समय में खो-खो खेल व खिलाड़ियों ने अन्तर्राष्ट्रीय स्तर पर मजबूत दावेदारी व बढ़ती लोकप्रियता की एक नई पहचान बना कर मिशाल कायम की । खो-खो खेल व खिलाड़ियों को बढ़ावा देने में राजीव मेहता जी के कार्यकाल को लेकर सबों ने आभार प्रकट किया । साथ ही इस चेयरमैन की पोस्ट खत्म होने पर सभी बहोत दुखी भी थे ।

 

 

 

 

 

आगे की कार्रवाई शुरू करते हुए त्यागी जी ने महासंघ का एनुअल रिपोर्ट सोपने के बाद उन्होंने बताया कि मंत्रालय द्वारा बनाये गए 2011 के बिभिन्न नियम के तहत चैयरमैन, आजीवन सदस्यता का पद अब नहीं होगा एक राज्य एक यूनिट होगा 70 के ऊपर आयु वाले नहीं रहेंगे लगातार दो राष्ट्रीय प्रतियोगिता में भाग नहीं लेने वाले यूनिट पर कार्रवाई करते हुए वहां तीन सदस्यीय कमेटी गठित कर दी। जाएगी साथ ही जिन राज्य खो-खो संघों ने भारतीय खो-खो महासंघ के सभी गाइड लाइन को पूरा किया उसे महासंघ से पूर्ण मान्यता दी । खो-खो खेल के विस्तार के लिए पहले की तरह संघ को सहयोग मिलता रहेगा जिन युनिटों ने मंत्रालय के नियमों के तहत महासंघ द्वारा माँगी गयी जानकारी अभी तक नहीं सौपी है उन पर कड़ी कार्रवाई की जाएगी जिसे सर्वसम्मति से सभी सदस्यों ने पारित किया। ये नियम भारतीय खो-खो महासंघ के सभी यूनिटों पर अब से लागू होगी।
एक्सक्यूटिव कमिटी और जेनरल बॉडी के सभी सदस्यों नेभारतीय खेल मंत्रालय के नियमों को खो खो महासंघ द्वारा पारित किए जाने का एक्सयूटिव कमिटी और जेनरल बॉडी के सदस्यों ने एकमत से समर्थन करते हुए श्री राजीव मेहता जी, सुधांशु मित्तल जी और एमएस त्यागी जी के कार्यों को देखते हुए उनके प्रति सभी ने एक मत से अपनी आस्था दिखाई।उन्होंने कहा कि अब खो खो संघ में एक स्टेट एक यूनिट कार्य करेगी और एक्सयूटिव कमिटी के सदस्य को ही चुनाव में वोटिंग करने की पात्रता होगी।

 

 

 

 

इसके साथ ही खो-खो एसोसिएशन ऑफ बिहार के महासचिव नीरज कुमार पप्पू द्वारा दिए गए आवेदन पर बिहार को पहली बार सीनियर राष्ट्रीय फेडरेशन कप खो- खो चैंपियनशिप की मेजवानी के आवेदन को भी इस मीटिंग में सर्व सम्मति से महासचिव महोदय के द्वारा सहमति प्रदान की जबकि सीनियर खो- खो पुरूष एवं महिला चैंपियनशिप महाराष्ट्र, जूनियर बालक एवं बालिका खो-खो चैंपियनशिप हिमाचल प्रदेश को और सब जूनियर बालक एवं बालिका खो-खो चैंपियनशिप दिल्ली या आन्ध्र प्रदेश में आयोजित किए जाने की घोषणा की गई।
साथ ही भारतीय खो-खो महासंघ के महासचिव एम. एस. त्यागी जी ने बताया कि खो-खो प्रीमियर लीग , एशियन एवं वर्ल्ड खो-खो चैंपियशिप का आयोजन कोविड 19 के बाद किया जाएगा…

 

 

 

 

भारतीय खो-खो महासंघ द्वारा बिहार को पहली बार सीनियर राष्ट्रीय फेडरेशन कप खो-खो चैंपियनशिप की मेजबानी देने को लेकर खो-खो एसोसिएशन ऑफ बिहार के महासचिव नीरज कुमार पप्पू ने महासंघ के सभी वरीय गणमान्य पदाधिकारियों का आभार प्रकट किया , साथ ही उन्होंने कहा कि ये आयोजन बिहार में होना गौरव की बात है , साथ ही इस से प्रदेश में खो-खो खेल व खिलाड़ियों के विकास में एक महत्वपूर्ण गति मिलेगी….

Live Cricket Live Share Market

जवाब जरूर दे 

बिहार का अगला मुख्यमंत्री कौन होगा ‌‍?

View Results

Loading ... Loading ...

Related Articles

Back to top button
Close
Close